उर्द व मूंग की बोआई से होगी अतिरिक्त आमदनी

जागरणसंवाददाता,मऊ:इससमयवसन्तऋतुचलरहीहै।ऐसेमेंउर्दवमूंगकीबोआईकरकेकिसानअतिरिक्तआमदनीकरसकताहै।ऐसेमेंफरवरीमाहकेदूसरेसप्ताहसेबोआईशुरूकरदेंऔरहरहालमें15मार्चसेपहलेयहकार्यपूराकरलें।इससेनसिर्फअच्छीउपजहोगी,बल्किउनकेखेतकीउर्वराशक्तिभीबढ़ेगी।इसकेतनेपलटदेनेसेहरीखादकाभीकामकरतेहैं।

कृषिविज्ञानकेंद्रपिलखीकेवरिष्ठवैज्ञानिकएवंअध्यक्षडा.एलसीवर्मानेमनुष्यकेस्वास्थ्यकेलिएप्रोटीनएकआवश्यकतत्वहै।यहदालोंकीफसलोंमेंपर्याप्तमात्रामेंपायाजाताहै।मूंगऔरउड़दमें20से25फीसद,अरहरमें22फीसदतथामसूरमें26प्रतिशततकप्रोटीनपाईजातीहै।इससमयजायदकासीजनचलरहाहै।किसानयदिसमयसेमूंगऔरउर्दकीबोआईकरदेंतोकृषिसेअतिरिक्तआमदनीप्राप्तकीजासकतीहै।शस्यवैज्ञानिकडाअंगदप्रसादनेकिसानोंकोजानकारीदीकिफरवरीमाहकेद्वितीयसप्ताहसेमूंगकीखेतीकरें।कृषकबंधुमूंगकीखेतीकरकेदोहरालाभपासकतेहैं।मूंगकेदानोंकाउपयोगअपनेदैनिकजीवनमेंदालकेरूपमेंप्रयोगकरेंतथाउसकीफलियोंकोतोड़करअलगकरकेशेषपौधोंकोउसीखेतमेंपलटदेनेसेयहहरीखादकीपूर्तिभीकरताहै।जायदमेंमूंगकीअच्छीपैदावारकेलिएसमयसेबोआईकरना,उन्नतिशीलप्रजातियोंकाचयनकरना,बीजशोधनकरनाएवमबीजउपचारकरनाअतिआवश्यकहै।वसन्तकालीनप्रजातियोंकीबोआई15फरवरीसे15मार्चतककरदेंतथाग्रीष्मकालीनप्रजातियोंकेलिएबोआईकासमय10मार्चसे10अप्रैलतकउपयुक्तहै।मूंगकीखेतीकेलिएप्रतिहेक्टेयर20से25किलोग्रामबीजकीमात्रापर्याप्तहोतीहै।मूंगकीप्रजातियांएचयूएम-16(जनकल्याणी),मालवीयजनचेतना,विराट,शिखा,वर्षाएवंनरेंद्रमूंग-1हैं।इनसभीप्रजातियोंकीउपजलगभग12से15क्विटलप्रतिहेक्टेयरहै।इसकेतैयारहोनेकासमय65से70दिनहै।

इसतरहकरनाचाहिएबीजशोधन

बीजशोधनकेलिए2.5ग्रामथीरमयाकार्बेंडाजिमसेउपचारितकरलेनाचाहिएतथाबीजउपचारकेलिएराइजोबियमकल्चरकाप्रयोगकरनाचाहिए।10से15किलोग्रामनाइट्रोजन,40किलोग्रामफास्फोरस,20किलोग्रामपोटाश,संपूर्णकीमात्राकोबोआईकेसमयखेतमेंमिलादेनाचाहिए।आमतौरपरमूंगकीफसलकोतीनसेचारसिचाइयोंकीआवश्यकतापड़तीहै।पहलीसिचाईबोआईके25से30दिनबादकरनीचाहिएऔरबादमें10से15दिनकेअंतरालपरसिचाईकीआवश्यकतापड़तीहै।खरपतवारप्रबंधनकेलिएबोआई72घंटेकेअंदरपेंडामेथिलिन30फीसदईसीके3.3लीटरको500से600लीटरपानीमेंघोलबनाकरबोआईकेदोसेतीनदिनकेअंदरछिड़कावकरदेनाचाहिए।