स्वदेशी क्रायोजेनिक इंजन का कामयाब टेस्ट

चेन्नैःभारतीयअंतरिक्षकार्यक्रमनेनईबुलंदियोंकोछूतेहुएस्वदेशीक्रायोजेनिकइंजनकासफलपरीक्षणकियाहै।अबजीएसएलवीकेलिएरूसकेक्रायोजेनिकइंजनपरनिर्भरनहींरहनापड़ेगा।तमिलनाडुमेंमहेंद्रगिरीमेंलिक्विडप्रोपलसनसिस्टम्ससेंटरमेंगुरुवारशामयहपरीक्षणकियागया।जीएसएलवीकेलिएस्वदेशीक्रायोजेनिकइंजनकेनएवर्जनका720सेकंडतकसफलतापूर्वकपरीक्षणकिया।इसरोकेप्रमुखजी.माधवननायरनेबतायाकिभविष्यमेंजीएसएलवीकेप्रक्षेपणकेलिएस्वदेशीक्रायोजेनिकइंजनकाइस्तेमालकियाजाएगा।उन्होंनेकहाकिइसपरीक्षणकेसाथहीक्रायोजेनिकइंजनकेनएवर्जननेपूरीक्षमताहासिलकरलीहै।यहजीएसएलवीकेअगलेप्रक्षेपणमेंइस्तेमालकेलिएतैयारहै।उन्होंनेबतायाकिहमनेअगलेसालजीएसएलवीप्रक्षेपितकरनेकीयोजनाबनाईहैजिसकीतारीखअभीतयनहींकीगईहै।क्रायोजेनिकइंजनके720सेकंडतककेपरीक्षणसेपहलेइससालअगस्तमें480सेकंडतकसफलपरीक्षणकियागयाथा।नायरनेकहाकिइंजनकाविकासमहत्वपूर्णहैक्योंकियहएकजटिलकामहै।इंजनकावर्जनबदलनाअपनेआपमेंबड़ीचुनौतीहै।उन्होंनेकहाकिहमनेदोनोंसमस्याओंपरकाबूपालियाहै।अबनयाजीएसएलवीपूरीतरहसेस्वदेशीहोगा।भविष्यकेजीएसएलवीअभियानोंमेंहमारेअपनेइंजनहोंगे।इससेपहलेइसरोरूसमेंनिर्मितक्रायोजेनिकइंजनकाइस्तेमालकररहाथा।नायरकेमुताबिकअबहमारेपासस्वदेशीतकनीकहैऔरभविष्यकेअभियानोंमेंहमउसेइस्तेमालकरेंगे।नायरनेबतायाकिहमारेपासरूसनिर्मितदोक्रायोजेनिकइंजनहैंऔरइनकाइस्तेमालउचितसमयपरकियाजाएगा।हमअपनेइंजनोंपरज्यादाएतबारकरेंगे।