जल्लीकट्टू पर्व में बैलों से बदसलूकी नहीं होती, सुप्रीम कोर्ट से न्याय की उम्मीद: केंद्र

नईदिल्ली:जल्लीकट्टूकेलिएअध्यादेशलानेकेलिएदबावबनानेकेतमिलनाडुकेप्रयासोंकेबीचकेंद्रनेकहाकिउसकीतरफसेचीजेंतैयारहैंलेकिनवहसुप्रीमकोर्टकेआदेशकाइंतजारकरेगाऔरउम्मीदहैकिशीर्षअदालतन्यायकरेगीताकिलोगपरंपराकेअनुसारउत्सवमनासकें.

पर्यावरणमंत्रीअनिलमाधवदवेनेइससंबंधमेंलोकसभाकेउपाध्यक्षऔरअन्नाद्रमुकसांसदएमथांबिदुरईकेनेतृत्वमेंएकप्रतिनिधिमंडलसेमुलाकातकी.दवेनेबैलोंकोप्रदर्शनकेलिएप्रतिबंधितपशुओंकीसूचीमेंशामिलकरनेकेलिएपिछलीकांग्रेसकीनेतृत्ववालीयूपीएसरकारकोजिम्मेदारठहराया.

दवेनेकहाकिइसआयोजनकेदौरानबैलोंकेसाथकोईबदसलूकीनहींकीजातीऔरविश्वासजतायाकिसुप्रीमकोर्टअपनानिर्णयदेतेसमयइनसभीपहलुओंपरविचारकरेगाताकिलोगअपनापर्वमनासकें.

दवेनेप्रतिनिधिमंडलसेमुलाकातकेबादकहा,‘‘हमसरकारहोनेकेनातेसुप्रीमकोर्टकेफैसलेकाइंतजारकररहेहैं.मुझेलगताहैकिहमेंउच्चतमन्यायालयसेफैसलासुनानेकाअनुरोधकरनाचाहिए,फिरसरकारकोईकदमउठासकतीहै.सरकारआधीरातमेंभीइसतरहकीसभीचीजोंकेलिएतैयारहै.’’

बैलोंकीदौड़वालेउत्सवजल्लीकट्टूकेलिएपुरजोरआवाजउठरहींहै.तमिलनाडुकेमुख्यमंत्रीओपनीरसेल्वमनेप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीकोपत्रलिखकरकेंद्रसेअनुरोधकियाथाकियहखेलहोसकेइसकेलिएअध्यादेशलागूकरनेपरविचारकियाजाए. अन्नाद्रमुकमहासचिववीकेशशिकलानेभीआजमोदीकोपत्रलिखा.